Posts

आवश्यक जानकारी जयपुर जिला प्रशासन

 आवश्यक जानकारी जयपुर जिला प्रशासन ने कंट्रोल रूम बनाया है जो 24 घंटे संचालित है इस टेलिफोन नंबर 01412205176/01412205175 कोविड से पीड़ित सभी समस्याएं अस्पताल में बेड की व्यवस्था दवाइयां और ऑक्सीजन से संबंधित सभी समस्याओं का निदान करते हैं कृपया जरूरतमंद इन नंबरों पर संपर्क करें

आवश्यक सूचना IMPORTANT INFORMATION

 आवश्यक सूचना* यदि हमारे किसी करीबी, रिश्तेदार, या परिचित के परिवार में हाल ही में कोई मृत्यु हुई हो। चाहे वह किसी भी कारण - बीमारी या कोविड -19 से हुई हो, तो उनसे बैंक के खाता का विवरण देखने को कहें। यदि उनके पासबुक की प्रविष्टि में 01 अप्रैल 2020 से 31मार्च 2021 के बीच बैंक ने 12/- या रु 330/- की राशि की निकासी अंकित है, तो इसे चिह्नित करें! और मृतक के परिजनों से कहें कि बैंक में जाकर दो लाख रुपए के लिए बीमा राशि का दावा प्रस्तुत करें! आप सभी से आग्रह है कि यदि आपके आसपास ऐसी घटना हुई हो तो तुरंत पीड़ित परिवार अथवा उनके परिजनों को अवश्य सूचित करें क्यूँकि यह बीमा दावा 90 दिनों के अन्दर करना अनिवार्य है। वर्ष 2015 से भारत सरकार ने ज्यादातर लोगों के बैंकों के हर बचत खाताधारकों को दो सस्ती बीमा योजनाएं प्रदान की थी :- प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना(PMJJBY) 330/- रुपये में और प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा बीमा योजना(PMSBY) 12/- रूपये में।  बैंक वालों ने अधिकांश लोगों से इस फॉर्म को भरवाया था और इन दोनों बीमा की वार्षिक क़िस्त उनके बचत खाते से प्रतिवर्ष कटती रहती है। इस संदेश को प्र

MUKHYA MANTRI CHIRANJIVI BEEMA YOJNA DETAILAS

Image
 

आपकी नजर में यदि कहीं पर कोई शोषण हो

 प्रिय मित्रों आपकी नजर में यदि कहीं पर कोई शोषण हो रहा हो या सरकार को कोई सुझाव देकर कोई मांग करनी हो तो अपने विचार हमें भिजवाए। विजेंद्र प्रकाश हलचल अध्यक्ष  कंजूमर एक्शन एंड प्रोटेक्शन सोसाइटी

Chat Test

दिल्ली में पुलिसकर्मियों से बदतमीज़ी करने वाले पति-पत्नी को जमानत देने से मना किया।  दोनों को तिहाड़ जेल भेजा गया। दोनों को U/S 188/186/353/269/34 IPC r/w 51(B) Delhi Disaster Management Act के तहत गिरफ्तार किया गया था लगभग सभी के घरों में इतना दूध तो होता है कि 5-6 मेहमान आ जाएं तो चाय बन जाए, किंतु यदि अचानक से 50-60 मेहमान आ जाए तो इतना दूध तो कोई नहीं रखता तब क्या आप यह बोलेंगे कि घर गरीब है, दूध की व्यवस्था भी नहीं रखता, इसका प्रबंधन फेल है यही हाल अस्पताल, ऑक्सीजन और दवाओं का है सब पर्याप्त मात्रा में थी, लेकिन अचानक अपेक्षा से कई गुना ज्यादा लोग गंभीर हो गए बड़ी बात यह है कि चिकित्साकर्मियों, सरकार, ब्यूरोक्रेट्स, जन-प्रतिनिधियों ने 3-4 दिनों में स्थितियों को  नियंत्रित कर लिया है जिन्हें लगता है कोई कुछ नहीं कर रहा, वो सिर्फ 24 घण्टे उनके साथ रहकर देखें, जो सेवा में सतत् लगे हैं स्मरण रहे, यह परिस्थिति बिल्कुल अलग है, वायरस नियमित म्यूटेंट हो रहा है कब क्या होगा, इसका अंदाजा विश्वभर के वैज्ञानिक भी नहीं लगा पा रहे हैं नागरिकों की जान बचाने के लिए … [ शुभ प्रभात....आपका आज का दिन
 DESH KE LIYE SAMARPITH